Monday, March 2, 2015



 SABR' Ek Aisi Sawaari Hai,Jo Apne 'Sawaar' Ko Kbhi Girne Nahi Deti..Na Kisi Ke 'Qadmo'MeinAurNa Kisi Ki Nazro Se. 

सब्र एक ऐसी सवारी है, जो अपने 'सवार' को कभी गिरने नहीँ देती, न किसी के 'कदमोँ' मेँ और न किसी की 'नजरोँ' मेँ।

9 comments:

Anita said...

बहुत सुंदर संदेश...

Prabodh Kumar Govil said...

Sachmuch "sabra" ki chaadar me bahut see pareshaniyon ke kaante zazb ho jaate hain,

Sanju said...

Prabodh kumar ji,
sahi kaha apne..

Shanti Garg said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति.....
Happy holi.

KAHKASHAN KHAN said...

बहुत ही अच्‍छी पोस्‍ट। ऐसे ही लिखते रहिए जनाब। ब्‍लागिंग हम भारतीयों के लिए अच्‍छी चीज है।

हिमकर श्याम said...

सुंदर विचार...मंगलकामनाएँ!!

Virendra Kumar Sharma said...

संतोष ही सबसे बड़ा धन है।

dj said...

very true..

संजय भास्‍कर said...

सुन्दर प्रस्तुति