Sunday, October 18, 2015

Kabhi Ankahi Baaton ki Ada hai, Kabhi Gam ki Dawa hai 'Dosti', Kami hai Pujne Walon ki, Warna Zameen par Khuda hai 'Dosti'. Be Friends Forever!

 कभी अनकही बातोँ की अदा है, कभी गम की दवा है दोस्ती, कमी है पूजने वालोँ की, वरना जमीन पर ख़ुदा है दोस्ती।

6 comments:

सुशील कुमार जोशी said...

अच्छा है :)

Shanti Garg said...

सुन्दर व सार्थक रचना प्रस्तुतिकरण के लिए आभार..

Upasna Siag said...

sachhi baat !

Kailash Sharma said...

बिलकुल सच...

जमशेद आज़मी said...

बहुत ही सुंदर रचना।

JEEWANTIPS said...

सुन्दर व सार्थक रचना प्रस्तुतिकरण के लिए आभार..
मेरे ब्लॉग की नई पोस्ट पर आपका इंतजार....