Sunday, July 19, 2015

 Image result for valentine single roses


 Yeh dil ke rishte bhi ajeeb hote hai, Sabke apne-apne naseeb hote hai, Rahte hai jo nigahoo se dur, Wo hi yadoo ke sabse kareeb hote hai. 

यह दिल के रिश्ते भी अजीब होते है, सबके अपने अपने नसीब होते हैँ, रहते हैँ जो निगाहोँ से दूर, वो ही यादोँ के सबसे करीब होते हैँ।

15 comments:

हिमकर श्याम said...

सुंदर

संजय भास्‍कर said...

बहुत सुन्दर और भावपूर्ण

Madhulika Patel said...

बहुत सुंदर लिखा है आपने । चंद लाइनों में बहुत सारे भावो को पीरोया है |

Sanju said...

Madhulika Patel ji,
हौसला बढ़ाने के लिए बहुत धन्यवाद।

JEEWANTIPS said...

सुन्दर व सार्थक प्रस्तुति..
शुभकामनाएँ।

virendra sharma said...

भाव संसिक्त प्रस्तुति

sm said...

बहुत सुंदर

Virendra Kumar Sharma said...

GOOD JOB BUDDY

Shanti Garg said...

सुन्दर व सार्थक प्रस्तुति..
शुभकामनाएँ।

Shanti Garg said...

सुन्दर व सार्थक रचना ..
मेरे ब्लॉग की नई पोस्ट पर आपका स्वागत है...

savan kumar said...

सुन्दर शब्द रचना...
http://savanxxx.blogspot.in

कहकशां खान said...

बहुत ही शानदार रचना।

JEEWANTIPS said...

सुन्दर व सार्थक रचना प्रस्तुतिकरण के लिए आभार..
मेरे ब्लॉग की नई पोस्ट पर आपका इंतजार....

Upasna Siag said...

सुंदर और सार्थक

GathaEditor Onlinegatha said...

Start self publishing with leading digital publishing company and start selling more copies
ebook publisher