Tuesday, March 21, 2017


Ek sacchi dosti barish ki tarah nahi hoti,
Jo aaye aur chali jaye,
Dosti hawa ki tarah hoti hai
Jo dikhti nahi par hamesha,
Har pal mahsoos hoti hai.

एक सच्ची दोस्ती बारिश की तरह नही होती
जो आए और चली जाए,
दोस्ती हवा की तरह होती है
जो दिखती नही पर हमेशा
हर पल महसूस होती है।

7 comments:

Pammi said...

सही कहा...
बहुत बढियाँ।

Shanti Garg said...

Nice lines for dosti

Digamber Naswa said...

बहुत ख़ूब ... हवा की तरह महक की तरह होती है दोस्ती ...

JEEWANTIPS said...

Dosti ...ek suhana rishta...
Nice post...

Arun Roy said...

sundar

JEEWANTIPS said...

बहुत प्रभावपूर्ण रचना......
मेरे ब्लॉग की नई पोस्ट पर आपके विचारों का इन्तज़ार.....

Virendra Singh said...

सही है। अच्छी बात लिखी है।